Total Visit _
 

उसूलों पे जहाँ आँच आये टकराना ज़रूरी है

                                                                                                                          – वसीम बरेलवी

 

Usoolon pe jahan aanch aaye takrana zaroori hai
Jo zinda ho to phir zinda nazar aana zaroori hai

Nayi umron ki khud_mukhtaariyon ko kaun samjhaye
Kahan se bach ke chalna hai kahan jaana zaroori hai

Thake haare parinde jab basere ke liye laute
Saliqaamand shaakhon ka lachak jaana zaroori hai

Bahut bebaak aankhon mein ta’alluq tikk nahi paata
Muhabbat mein kashish rakhne ko sharmaana zaroori hai

Saliqa hi nahi shaayad use mahsuus karne ka
Jo kahta hai khuda hai to nazar aana zaroori hai

Mere honthon pe apni pyaas rakh do aur phir socho
ki is ke baad bhi duniya mein kuch paana zaroori hai 
उसूलों पे जहाँ आँच आये टकराना ज़रूरी है
जो ज़िन्दा हों तो फिर ज़िन्दा नज़र आना ज़रूरी है

नई उम्रों की ख़ुदमुख़्तारियों को कौन समझाये
कहाँ से बच के चलना है कहाँ जाना ज़रूरी है

थके हारे परिन्दे जब बसेरे के लिये लौटे
सलीक़ामन्द शाख़ों का लचक जाना ज़रूरी है

बहुत बेबाक आँखों में त’अल्लुक़ टिक नहीं पाता
मुहब्बत में कशिश रखने को शर्माना ज़रूरी है

सलीक़ा ही नहीं शायद उसे महसूस करने का
जो कहता है ख़ुदा है तो नज़र आना ज़रूरी है

मेरे होंठों पे अपनी प्यास रख दो और फिर सोचो
कि इस के बाद भी दुनिया में कुछ पाना ज़रूरी है 
    
    

Back to the Main Page

 Posted by at 5:41 PM

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE