Total Visit _
 

तू अपनी आवाज़ में गुम है

                                                                                                                          – उबैदुल्लाह अलीम

tu apni aawaz men gum hai main apni aawaz men chup
donon bich khaDi hai duniya aaina-e-alfaz mein chup

phir hum donon chale gae patal se gahre raaz mein chup
awwal awwal bol rahe the KHwab-bhari hairani mein

ab koi chhu ke kyun nahin aata udhar sire ka jiwan-ang
jab is ke anjam men chup hai jab is ke aaghaz mein chup

phir ye khel-tamasha sara kis ke liye aur kyun sahab
jitne sur hain saz se bahar us se ziyaada saz mein chup

KHwab-sara-e-zat men zinda ek to surat aisi hai
jaise sham ko ab nahin jalna khinch li is andaz mein chup

ghaib-samay ke gyan men pagal kitni tan lagaega
jaante hain par kya batlaen lag gai kyun parwaz men chup

nind-bhari aankhon se chuma diye ne suraj ko aur phir
jaise koi dewi baiThi ho hujra-e-raaz-o-niyaz men chup

तू अपनी आवाज़ में गुम है मैं अपनी आवाज़ में चुप
दोनों बीच खड़ी है दुनिया आईना-ए-अल्फ़ाज़ में चुप

जैसे शाम को अब नहीं जलना खींच ली इस अंदाज़ में चुप
जब इस के अंजाम में चुप है जब इस के आग़ाज़ में चुप

अब कोई छू के क्यूँ नहीं आता उधर सिरे का जीवन-अंग
नींद-भरी आँखों से चूमा दिए ने सूरज को और फिरख़्वाब-सरा-ए-ज़ात में ज़िंदा एक तो सूरत ऐसी है
जैसे कोई देवी बैठी हो हुजरा-ए-राज़-ओ-नियाज़ में चुपजितने सुर हैं साज़ से बाहर उस से ज़ियादा साज़ में चुप
जानते हैं पर क्या बतलाएँ लग गई क्यूँ परवाज़ में चुपफिर ये खेल-तमाशा सारा किस के लिए और क्यूँ साहब
फिर हम दोनों चले गए पाताल से गहरे राज़ में चुप

अव्वल अव्वल बोल रहे थे ख़्वाब-भरी हैरानी में
ग़ैब-समय के ज्ञान में पागल कितनी तान लगाएगा

 Back to the Main Page

 Posted by at 6:37 PM

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE