Total Visit _
 

शौक़ को आज़िमे सफ़र रखिए

                                                                                                                           – निखत इफ़्तिख़ार

Shauq Ko Aazime Safar Rakhiye
Bekhabar Banke Sab Khabar Rakhiye

Chahe Nazrein Ho Aasmanon Par
Paon Lekin Zameen Par Rahkhiye

mujhko dil mein agar basana hai
ek saihra ko apne ghar Rahkhiye

koi nasha ho toot jata hai
kab talak apne to bekhabar Rahkhiye

Jaane Kis Waqt Kooch Karna Ho
Apna Saaman Mukhtasar Rakhiye

Dil Ko Khud Dil Se Raah Hoti Hai
Kis Liye NamA Bar Rakhiye

Baat Hai Kya Yeh Kaun Parkhega
Aap Lehje Ko Purasar Rakhiye

Aik Tuk Mujhko Dekhe Jati Hain
Apni Nazron Pe Kuch Nazar Rakhiye

Jaane Kis Waqt Kooch Karna Ho
Apna Saaman Mukhtasar Rakhiye

शौक़ को आज़िमे सफ़र रखिए
बेख़बर बनके सब खबर रखिए

चाहे नज़रें हो आसमानों पर
पावं लेकिन ज़मीन पर रखिए

मुझको दिल में अगर बसाना है
एक सैयरह को अपने घर रखिए

कोई नशा हो टूट जाता है
कब तलाक़ अपने तो बेख़बर रखिए

जाने किस वक़्त कूच करना हो
अपना सामान मुख़्टासर रखिए

दिल को खुद दिल से राह होती है
किस लिए नामा बार रखिए

बात है क्या यह कौन परखेगा
आप लहजे को पुरासर रखिए

ऐक टुक मुझको देखे जाती हैं
अपनी नज़रों पे कुछ नज़र रखिए

जाने किस वक़्त कूच करना हो
अपना सामान मुख़्टासर रखिए

Back to the Main Page

 Posted by at 11:24 PM
Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE