पारा पारा हुआ पैराहन-ए-जाँ

                                                                                                                           – Saeed Rahi

 

वो उन्हें याद करें जिसने भुलाया हो कभी
हमने उनको न भुलाया न कभी याद किया
                                                                      

paara paara hua pairaahan-e-jaan
phir mujhe chhod gaye chaaraagaraan

koyi aahat, na ishaara, na saraab
kaisa viraan hai ye dasht-e-imkaan

chaar-suu kaaq udaati hai hawa
astaraan, kaabaataraan, teg-e-ravaan

waqt ke sog mein lamhon ka juluus
jaise ik kaafilaa-e-nauhaagaraan

marge umeed ke viran saboroj
mausame baher bahaar aur na khizan

kaise ghabaraaye huye phirate hain
tere mohataaz tere dil-zadagaan

पारा पारा हुआ पैराहन-ए-जाँ
फिर मुझे छोड़ गये चारागराँ

कोई आहट, न इशारा, न सराब
कैसा वीराँ है ये दश्त-ए-इम्काँ

चार-सू ख़ाक़ उड़ाती है हवा
अस्तराँ, काबातराँ, तेग़-ए-रवाँ

वक़्त के सोग में लम्हों का जुलूस
जैसे इक क़ाफ़िला-ए-नौहागराँ

मर्गे उम्मीद के वीराँ सब्रोज़
मौसमें बहर बहार और ना खिंज़ा

कैसे घबराये हुए फिरते हैं
तेरे मोहताज़ तेरे दिल-गज़दाँ

 Back to the Main Page

Leave a Reply

Close Menu