Total Visit _
 

पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल

                                                                                                                          – मीर तक़ी मीर

Ashk aankhon mein kab nahi aata
Lahoo aata hai, jab nahi aataHosh jaata nahi raha lekin
Jab wo aata hai, tab nahi aataDil sey rukhsat hui koi khwaahish
Giriya kuch bey-sabab nahi aata

Ishq ka hausla hai shart warna
Baat ka kis ko dhab nahi aata

Jee mein kia kia hai apney aey hum-dum
Har sukhan taa-ba-lub nahi aata

अश्क आँखों में कब नहीं आता
लहू आता है जब नहीं आताहोश जाता नहीं रहा लेकिन
जब वो आता है तब नहीं आतादिल से रुखसत हुई कोई ख्वाहिश
अश्क यूँ बे- वजह नहीं आता

इश्क का हौसला है शर्त वरना
बात का किस को ढब नहीं आता

जी में क्या-क्या है अपने ऐ हमदम
हर लफ्ज़ लब तलक नहीं आता।

 Back to the Mir Ke Ghazals

 Posted by at 10:00 PM
Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE