Total Visit _
 

मेरा अपना तजुर्बा है

– कुमार विश्वास
 

Mera apna tajurba hai, Tumhein batla raha hoon main,
Koi lab choo gaya tha tab, Ke ab tak gaa raha hoon main.

Bichur ke pyar mein kaise jiya jaaye bina tadpe
Jo mai khudh hi samjha wahi samjha raha hoon.

Koi patthar ki moorat hai, Kisi patthar mein moorat hai,
Lo humne dekli dunia, jo itni khoobsoorat hai

Zamana apni samje par, mujhe apni khabar ye hai,
Tujhe meri zaroorat hai, mujhe teri zaroorat hai.
मेरा अपना तजुर्बा है, तुम्हे बतला रहा हूँ मैं
कोई लब छु गया था तब, की अब तक गा रहा हूँ मैं

बिछुड़ के तुम से अब कैसे, जिया जाये बिना तडपे
जो मैं खुद ही नहीं समझा, वही समझा रहा हु मैं

कोई पत्थर की मूरत है, किसी पत्थर में मूरत है
लो हमने देख ली दुनिया, जो इतनी खुबसूरत है

जमाना अपनी समझे पर, मुझे अपनी खबर यह है
तुझे मेरी जरुरत है, मुझे तेरी जरुरत है

Back to Dr. Kumar Vishwas page.

 Posted by at 6:52 PM
Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE