Total Visit _
 

मैं भाव-सूची उन भावो की

                                                                                                                        – कुमार विश्वास

Mein bhav suchi un bhavon ki,
jo bike sada hi bin tole
Tanhai hoon har us khat ki
jo padha gya hai bin khole
Har aansoon ko har patthar tak
pahunchane ki laachar hook
Mein sahaj arth un shabdon ka
jo sune gayen hai bin bole
Jo kabhi nhi barsa khul kar 
har us baadal ka paani hoon
Luv kush ki peer bina gaayi 
seeta ki ram kahani hoon

Jink sapno ke taj mahal 
banne se pahle toot gaye
Jin haatho me do haath kabhi
 aane se pahle choot gaye
Dharti par jin-ke khone
aur paane ki ajab kahani hai
Kismat ki devi maan gyi
par pranay devta rooth gaye
Mmai maili chadar vaale us 
kabira ki amritvaani hoon
Luv kush ki peer bina gaayi 
seeta ki ram kahani hoon

kuch kehte hain main seekha hoon
apne zakhamo ko khud seekar
kuch jaan gaye mein hansta hoon 
bhitar bhitar aansu peekar
kuch kehte hai mein hoon virodh 
se upji ek khuddar vijay
Kuch kehte hain mein rachata hoon 
khud mein mar kar khud mein jee kar
lekin mein har chaturai ki 
sochi samjhi nadani hoon
Luv kush ki peer bina gaayi 
seeta ki ram kahani hoon
मैं भाव-सूची उन भावो की,
जो बिक़े सदा ही बिन तोले,
तन्हाई हूँ हर उस ख़त की,
जो पढ़ा गया है बिन खोले,
हर आंसू को, हर पत्थर तक,
पहुचाने की लाचार हूक,
मैं सहज अर्थ उन शब्दों का, 
जो सुने गए हैं बिन बोले ,
जो कभी नहीं बरसा खुल कर,
हर उस बादल का पानी हूँ,
लव कुश की पीर बिना गाई,
सीता की राम कहानी हूँ...!

जिनके सपनों के ताजमहल,
बनने से पहले टूट गए,
जिन हाथों में दो हाथ कभी,
आने से पहले छूट गए,
धरती पर जिनके खोने और,
पाने की अजब कहानी है,
किस्मत की देवी मान गई,
पर प्रणय देवता रूठ गए,
मैं मैली चादर वाले उस,
कबिरा की अमरित-बानी हूँ......!
लव कुश की पीर बिना गाई,
सीता की राम कहानी हूँ...!!

कुछ कहते हैं मैं सीखा हूँ, 
अपने जख्मो को खुद सी कर,
कुछ जान गए मैं हँसता हूँ, 
भीतर-भीतर आसूँ पीकर ,
कुछ कहते हैं मैं हूँ, 
विरोध से उपजी एक खुद्दार विजय,
कुछ कहते हैं मैं रचता हूँ, 
खुद में मर कर खुद में जी कर,
लेकिन मैं हर चतुराई की, 
सोची-समझी नादानी हूँ.........!
लव कुश की पीर बिना गाई,
सीता की राम कहानी हूँ...!!

Back to Kumar Vishwas page.

 Posted by at 6:03 PM
Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE