Total Visit _
 

जिसकी धुन पर दुनिया नाचे

                                                                                                                          – कुमार विश्वास
 

Jiski dhun par duniya naache, dil aisa ek taara hai
jo humko pyaara hai aur jo tumko bhi pyaara hai
jhoom rahi saari duniya jab ki humare geeton par
tab kahti ho pyaar hua hai kya ehsaan tumhara hai

jo dharti se ambar jode, uska naam mohabbat hai
jo seeshe se patthar tode, uska naam mohabbat hai
katra katra sagar to jaati hai har umar magar
behta dariya wapas mode uska naam mohabbat hai

Panahon mein jo aaya ho,to us par war kya karna?
Jo dil hara hua ho,us pe phir adikar kya karna?
Muhbbat ka maza to dubne ki kashmkash mein hai,
Jo ho malum gahrai,to dariya par kya karna

Basti Basti ghor udaasi, parbad parbad khalipan
man heera bemol lut gaya, gis gis reeta tan chandan
ish dharti se ush ambar tak, do hi cheej gazab ki hai
ek to tera bhola pan hai, ek mera deewana pan

Tumhare paas hun lekin jo duri hai samajhta hun…
Tumhare bin meri hasti adhuri hai, samajhta hun…
Tumhein main bhul jaaunga, ye mumkin hai nhi lekin…
Tumhi ko bhulna, sabse jaruri hai samajhta hun

bahut bikhara bahut toota, thapede sah nahi paaya
hawaon ke ishaaron par magar main bah nahi paaya
adhoora ansuna hi rah gaya yuun pyaar ka kissa
kabhi tum sun nahi paayi, kabhi main kah nahi paaya
जिसकी धुन पर दुनिया नाचे, दिल ऐसा इकतारा है,
जो हमको भी प्यारा है और, जो तुमको भी प्यारा है.
झूम रही है सारी दुनिया, जबकि हमारे गीतों पर,
तब कहती हो प्यार हुआ है, क्या अहसान तुम्हारा है.

जो धरती से अम्बर जोड़े , उसका नाम मोहब्बत है ,
जो शीशे से पत्थर तोड़े , उसका नाम मोहब्बत है ,
कतरा कतरा सागर तक तो ,जाती है हर उम्र मगर ,
बहता दरिया वापस मोड़े , उसका नाम मोहब्बत है .

पनाहों में जो आया हो, तो उस पर वार क्या करना ?
जो दिल हारा हुआ हो, उस पे फिर अधिकार क्या करना ?
मुहब्बत का मज़ा तो डूबने की कशमकश में हैं,
जो हो मालूम गहराई, तो दरिया पार क्या करना ?

बस्ती बस्ती घोर उदासी पर्वत पर्वत खालीपन,
मन हीरा बेमोल बिक गया घिस घिस रीता तनचंदन,
इस धरती से उस अम्बर तक दो ही चीज़ गज़ब की है,
एक तो तेरा भोलापन है एक मेरा दीवानापन.

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है समझता हूँ,
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है समझता हूँ,
तुम्हे मै भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नही लेकिन,
तुम्ही को भूलना सबसे ज़रूरी है समझता हूँ

बहुत बिखरा बहुत टूटा थपेड़े सह नहीं पाया,
हवाओं के इशारों पर मगर मैं बह नहीं पाया,
अधूरा अनसुना ही रह गया यूं प्यार का किस्सा,
कभी तुम सुन नहीं पायी, कभी मैं कह नहीं पाया
 
 

Back to Kumar Vishwas Page

 Posted by at 5:11 PM

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE