दरीचा बे-सदा कोई नहीं है

                                                                                 – “साबिर जफर”
                                                                      

Dareecha besada koi nahin hai
Agarche bolta koi nahin hai

Rukun to manzilen hi manzilen hain
Chaloon to rastaa koi nahin hai

Khuli hain khidkiyaan har ghar ki lekin
Gali mein jhaankta koi nahin hai

Kisise aashna aisa hua hoon
Mujhe pehchantaa koi nahin hai

Mein eise jamghate mein kho gaya hoon
jahan mere siva kio nahi hai

दरीचा बे-सदा कोई नहीं है
अगरचे बोलता कोई नहीं है

रुकूँ तो मंज़िलें हि मंज़िलें हैं
चलूँ तो रास्ता कोई नहीं है

खुली हैं खिड़कियाँ हर घर की लेकिन
गली में झाँकता कोई नहीं है

किसी से आश्ना ऐसा हुआ हूँ
मुझे पहचानता कोई नहीं है

मैं ऐसे जमघटे में खो गया हूँ
जहाँ मेरे सिवा कोई नहीं है

दरीचा = window
बे-सदा = noiseless
अगरचे= अगर, if
आश्ना=friend

 Back to the Main Page

Leave a Reply

Close Menu