बात साक़ी की न टाली जाएगी

                                                                                 – Habib Jaleel
                                                                      

baat saaqi ki na taali jayegi
karke tauba tod dali jayegi

dekh lena wo na khali jayegi
aah jo dil se nikali jayegi

gar yahi tarz-e-fugan hai andali
to bhi gulshan se nikali jayegi

aate aate ayega unko khayaal
jaate jaate bekhayali jayegi

kyu nahi milti gale se tegh-e-naaz
id kya ab ke bhi khali jayegi

बात साक़ी की न टाली जाएगी
करके तौबा तोड़ डाली जाएगी

देख लेना वो ना खाली जाएगी
आह जो दिल से निकाली जाएगी

गर यही तर्ज़-ए-फूग़ान है अंदली
तू भी गुलशन से निकाली जाएगी

आते आते आयेगा उनको ख़याल
जाते जाते बेखायाली जाएगी

क्यूँ नहीं मिलती गले से तेघ्-ए-नाज़
ईद क्या अब के भी खाली जाएगी

 Back to the Main Page

Leave a Reply

Close Menu