बात करनी मुझे मुशकिल कभी ऐसी तो ना थी

                                                                                 – Bahadur Shah “Zafar”
                                                                      

baat karni mujhe mushkil kabhi aisi to na thi
jaisi ab hai teri mehfil kabhi aisi to na th

ile gaya chiin ke kaun aaj tera sabr-o-qarar
beqarari tujhe ai dil kabhi aisi to na thi

chashm-e-qaatil meri dushman thi hameshaa lekin
jaise ab ho gai qatil kabhi aisi to na thi

un ki aankhon ne Khudaa jaane kiya kya jaadu
ke tabiyat meri maail kabhi aisi to na thi

aks-e-ruKh-e-yaar ne kis se hai tujhe chamakaayaa
tab tujh mein maah-e-kaamil kabhi aisi to na thi

kyaa sabab tu jo bigadata hai “Zafar” se har baar
Khuu teri huur-e-shamaail kabhi aisi to na thi

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो ना थी
जैसी अब है तेरी महफ़िल कभी ऐसी तो ना थी

ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्र-ओ-क़रार
बेक़ारारी तुझे ए दिल कभी ऐसी तो ना थी

चश्म-ए-क़ातिल मेरी दुश्मन थी हमेशा लेकिन
जैसी अब हो गई क़ातिल कभी ऐसी तो ना थी

उन की आँखों ने खुदा जाने किया क्या जादू
के तबीयत मेरी माइल कभी ऐसी तो ना थी

अक्स-ए-रुख्ह-ए-यार ने किस से है तुझे चमकाया
तब तुझ में माह-ए-कामिल कभी ऐसी तो ना थी

क्या सब्ब तू जो बिगड़ता है “ज़फ़र” से हर बार
ख़ू तेरी हुउर-ए-शामिल कभी ऐसी तो ना थी

माइल =affected
अक्स-ए-रुख़-ए-यार=  the image of face of the beloved
ताब = sparkle
माह-ए-कामिल = full moon
ख़ू = habit
हूर-ए-शमाइल= beauty of paradise with virtues

 Back to the Main Page

Close Menu