Total Visit _
 

आज दुश्मन है निगहबान खुदा खैर करे

                                                                                                                          – डॉ. नुज़्हत अंजुम

 

Aaj dushman hai nigehbaan khuda khair kare
Hai hatheli pe meri jaan khuda khair kare

Dekhiye haq mera milta hai barabar ki nahin
Us ke haathon me hai meezaan khuda khair kare

Jo zamane ko kabhi loot liya karta tha
Woh bana baitha hai sultaan khuda khair kare

Surkh phoolon ko masal dena hai fitrat jiski
Hai woh gulshaan ka nigheban khuda k

Masl-e-haq koi to ismein hai yakinan nuzhat
Mujh ke karta hai woh ehsaan khuda khair kare

Phele milte the har ek shaqs se khulkar hum bhi
Ab hain insaan mein haiwan khuda khair kare
आज दुश्मन है निगहबान खुदा खैर करे
है हथेली पे मेरी जान खुदा खैर करे

देखिए हक़ मेरा मिलता है बराबर की नहीं.
उस के हाथों में है मीज़ान ख़ुदा खैर करे

जो ज़माने को कभी लूट लिया करता था
वो बना बैठा है सुल्तान ख़ुदा खैर करे

सुर्ख फूलों को मसल देना है फ़ितरत जिसकी
है वो गुलशान का निगहबान ख़ुदा खैर करे

मसले हक़ कोई तो इसमें है यक़ीनन नुज़्हत
मुझ के करता है वो एहसान खुदा खैर करे

पहले मिलते थे हर एक शक़्स से खुलकर हम भी
अब हैं इंसान में हैवान ख़ुदा खैर करे
 
 

Back to the Nuzhat Anjum Page

 Posted by at 9:33 PM

 Leave a Reply

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

(required)

(required)

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE